*प्यार*
June 27, 2020 • गुरुकुल वाणी

_मुलाकात होती है_
_नजर से बात होती है_
_दिल की धड़कन साथ होती है_
_कह सकूँ न एक शब्द_
_वो प्यार होती है_!
_ओठ खुल सके ना_
_नयन उठ सके ना_
_शब्द बन सके सके ना_
_पलक खुल सके ना_
_ये मदहोशी_
_शायद प्यार होती है!_
_प्यार में कोई अंतर नही_
_जाति और धर्म का_
_कोई छोटा ना कोई बड़ा_
_बंधन ना कोई मजबूरी का_
_सब करते प्यार समान_
_मन मे कोई भेद नही उठता_
_प्यार करने वालो में_
_जो चाहे जैसे चाहे_
_मन मे दबा के रखे प्यार_
_ये प्यार होती है!_

*नीलम प्रभा सिन्हा*