**सोच**
May 1, 2020 • गुरुकुल वाणी

*कहने वाले कहते रहे,*
                     *निकम्मे हैं सरकारी !*
*आज इस विकट दौर में,*
                  *काम आए सरकारी !*
*कोई न आते पास मरीज के,*
                  *दवा पिलाते सरकारी ।*
*कोई न इनके हाथ लगाते ,*
                *मल मूत्र उठाते सरकारी !*
*कोई न इनको रोक पाते,* 
                    *पत्थर खाते सरकारी ।*
*चौराहों पर चौबीसों घण्टे ,*
                    *पाठ पढ़ाते सरकारी !*
*स्कूलों में बारातियों सी ,* 
                 *खातिर करते सरकारी ।*
*छोड़ परिवार डटे हुए हैं,*
                 *कर्तव्य पथ पर सरकारी!*
*या फिर बच्चे के संग,*
                  *ड्यूटी पर मां सरकारी!*
*अपनी कमाई का हिस्सा दे,*
                   *बिना नाम के सरकारी!*
*घर रहने की विनती करते,*
                  *गाना गा कर सरकारी!*
*घर घर जो सर्वे करते,*
                *वो बन्दे सारे सरकारी।*
*नुकसान तो सबका है ,* 
      *पर मौत सर लिए बैठे*
               *निकम्मे सारे सरकारी !!*

             
  ✒️ *जिलाधिकारी बाराबंकी की कलम से*