अपील : जनता रेलवे स्टेशनों पर व्यर्थ में न जाएं वहां सभी सेवाएं बन्द मिलेंगी केवल कंप्यूटरीकृत यात्री आरक्षण केंद्र (PRS) समयानुसार खुलेंगे जहां यात्री गण अपने यात्रा टिकट कैंसिल करा कर अपना रिफंड ले सकते है : विजय कुमार पंजियार
March 22, 2020 • गुरुकुल वाणी

31 मार्च 2020 तक सभी मेल/एक्सप्रेस एवं सवारी गाड़ियां रेलवे बोर्ड द्वारा निरस्त


वाराणसी, 22 मार्च 2020। मंडल रेल प्रबंधक, पूर्वोत्तर रेलवे, वाराणसी श्री विजय कुमार पंजियार ने बताया है कि 31 मार्च 2020 तक सभी मेल/एक्सप्रेस एवं सवारी गाड़ियां रेलवे बोर्ड द्वारा निरस्त कर दी गयी है। उन्होंने यात्री जनता से अपील की है कि जनता रेलवे स्टेशनों पर व्यर्थ में न जाएं वहां सभी सेवाएं बन्द मिलेंगी केवल कंप्यूटरीकृत यात्री आरक्षण केंद्र (PRS) समयानुसार खुलेंगे जहां यात्री गण अपने यात्रा टिकट कैंसिल करा कर अपना रिफंड ले सकते है। मंडल रेल प्रबंधक वाराणसी श्री विजय कुमार पंजियार ने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोपरी है जिसके लिए रेलवे प्रशासन ने यह फैसला लिया है। अतः अपनी सुरक्षा का ध्यान रखें-किसी भी प्रकार की भीड़ से बचें, मास्क का प्रयोग करें, समय-समय पर हाथ धोएं और यथा संभव घर पर ही रहें।

भारतीय रेलवे ने नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) के मद्देनजर सभी ट्रेन सेवायें रद्द कीं। सभी प्रीमियम और मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन 31 मार्च 2020 को रात्रि 12:00 बजे तक बन्द रहेगा। 'कोविड-19' को ध्यान में रखते हुए उठाये जा रहे विभिन्न कदमों के तहत रेलवे बोर्ड द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि भारतीय रेलवे की सभी यात्री ट्रेन सेवायें 31.03.2020 के 24:00 यानी रात 12 बजे तक रद्द रहेगी। इनमें प्रीमियम ट्रेनें, मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें, पैसेंजर ट्रेनें, उपनगरीय ट्रेनें, कोलकाता मेट्रो रेल, कोंकण रेलवे इत्यादि शामिल है। हालांकि उपनगरीय ट्रेनों आए कोलकाता मेट्रो रेल की अत्यंत सीमित सेवाएं 22.03.2020 के 24:00 बजे यानी रात 12 बजे तक जारी रहेगी। जिन जिन ट्रेनों ने 22 मार्च, 2020 के 04:00 बजे यानी सुबह 04 बजे से पहले ही अपनी यात्रा शुरू कर दी थीं, वे अपने-अपने गंतव्यों तक अवश्य पहुँचेंगी। उन यात्रियों के लिए सफर के दौरान और फिर उनके गन्तव्यों पर पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी, जिन्होंने अपनी यात्रा बकायदा शुरू कर दी है। देश के विभिन्न हिस्सों मव आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए मालगाड़ियों की आवाजाही निरंतर जारी रहेगी। यात्रियों के इसे और भी सुविधाजनक बनाने के उद्देश्य से रद्द की गई सभी ट्रेनों के टिकटों का पूर्ण रिफंड दिनांक 21.06.2020 तक प्राप्त किया जा सकता है। ट्रेनों के रद्द होने से प्रभावित यात्रियों को परेशानी मुक्त एवं सुविधाजनक टिकट रिफंड के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी।

*कोविड-19 के सम्बंध में भीड़ एकत्र न होने देने और सामाजिक दूरी बनाए रखने हेतु गवर्नमेंट एडवाइजरी*

पी आर एस काउंटर से जनरेट किये हुए टिकट के रिफण्ड नियम में रियायत मिलेगी। ई-टिकट के लिए नियम यथावत रहेंगे तथा यात्रियों को टिकट रिफण्ड हेतु स्टेशन जाने की आवश्यकता है नहीं है। यह रियायत 21 मार्च से 15 अप्रैल, 2020 तक यात्रा अवधि पर लागू। केस 1- यदि 21 मार्च से 15 अप्रैल, 2020 के बीच गाड़ी रेलवे प्रशासन द्वारा गाड़ी निरस्त की गई हो तो।

★ यात्रा तिथि से 45 दिन तक काउंटर से रिफण्ड प्राप्त किया जा सकता है। (3 घण्टा/72घण्टा के वर्तमान नियम के बजाय) केस-2 यदि गाड़ी निरस्त नहीं है और यात्री यात्रा नहीं करना चाहते है तो

★यात्रा तिथि से 30 दिन के अंदर स्टेशन पर टिकट जमा कर टी डी आर (टिकट डिपॉजिट रिसीट) प्राप्त किया जा सकता है। (तीन दिन के वर्तमान नियम के बजाय)

★रिफण्ड प्राप्त करने के लिए स्टेशन पर टिकट जमा करने की तिथि से 60 दिन के अंदर मुख्य दावा अधिकारी/मुख्य वाणिज्य प्रबंधक/दावा कार्यालय को टी डी आर जमा किया जा सकता है। यह रिफण्ड गाड़ी के आरक्षण चार्ट से वेरिफाई होने पर ही देय होगा। (10 दिन के वर्तमान नियम के बजाय)

★ जो यात्री अपना टिकट 139 के माध्यम स्व निरस्त करते हैं वो यात्रा तिथि से 30 दिन के अंदर काउंटर से रिफण्ड प्राप्त कर सकते हैं। (गाड़ी के निर्धारित समय से छूटने के वर्तमान नियम के बजाय) यात्रियों को सुझाव दिया जाता है कि वह इस सुविधा का लाभ उठाएं तथा आवश्यक रूप से स्टेशन न आकर कॅरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव को रोकें ।