दीप जलाकर मनायें भगवान परशुराम जयंती
April 25, 2020 • गुरुकुल वाणी


सम्पूर्ण लॉक डाउन के चलते नही होगा बड़ा आयोजन

सलेमपुर, देवरिया। परशुराम जयंती हिन्दू पंचांग के अनुसार बैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है।इसे परशुराम द्वादशी भी कहा जाता है।अक्षय तृतीया को परशुराम जयंती के रूप में मनाया जाता है।ऐसी मान्यता है कि इस दिन किये गए पुण्य का प्रभाव कभी खत्म नही होता,इसलिए इस दिन का विशेष महत्व है।

परशुराम जयंती के अवसर पर ग्राम गुमटही में प्रति वर्ष होने वाला आयोजन इस वर्ष कोविड-19 के प्रभाव के चलते सम्पूर्ण देश में चल रहे लॉक डाउन के कारण स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।इस बात की जानकारी आयोजक मंडल के सदस्य सांकृत्यायन रवीश पाण्डेय ने दी।पाण्डेय ने कहा कि आज पूरा विश्व कोरोना संकट से गुजर रहा है ऐसे में किसी भी प्रकार के आयोजन जिसमे लोगो की भीड़ एकत्रित हो राष्ट्रहित में किसी भी दृष्टिकोण से सर्वथा अनुचित है इसलिये इस वर्ष यह आयोजन स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने सभी परशुराम भक्तों से से आग्रह किया कि 25 अप्रैल दिन शनिवार को शाम 7 बजे दीप जलाकर भगवान परशुराम की जयंती अपने अपने घर पर मनाएं।

*रवीश पाण्डेय*