एक जरूरतमंद की मदद
April 1, 2020 • गुरुकुल वाणी


30 मार्च को दोपहर में मझौली राज के रहने वाले मेराज अहमद पुत्र बहाउद्दीन साह वार्ड नंबर 1 के निवासी की बहन साजिया ने कामरेड प्रेमचंद यादव को फोन करके बताया कि उनके भाई के परिवार में अनाज के अभाव में खाना नहीं बना है और रात का बचा हुआ बासी भात भुनकर  किसी तरह बच्चों को खिलाया गया। इस स्थिति से कामरेड प्रेमचंद यादव ने उत्तर प्रदेश खेत मजदूर यूनियन के प्रांतीय अध्यक्ष कामरेड सतीश कुमार को फोन से  अवगत कराया। कामरेड सतीश कुमार ने प्रशासनिक अमले को सूचित किया और तुरंत मदद पहुंचाने की अपील की। लेकिन 1 घंटे से ज्यादा बीत जाने के बाद भी जब प्रशासन की तरफ से कोई मदद नहीं पहुंची तो पुनः साजिया के फोन आने के बाद कामरेड सतीश कुमार अपने साथी कामरेड रामनिवास यादव एवं पंडित अवध नारायण शर्मा जी के साथ पर्याप्त मात्रा में खाद्य सामग्री लेकर के मेराज अहमद के घर मझौली राज पहुंचे और उन्हें मदद पहुंचायी। मदद पाकर जरूरतमंद परिवार दुआ करने लगा एवं पुछने पर बताया कि मेरे पास राशन कार्ड नहीं है और परिवार का खर्च रोज मजूरी करने से ही किसी तरह चल पाता है एवं परिवार में बुजुर्ग को पेंशन भी नहीं मिलता है और यह भी कहा कि यह स्थिति मझौलीराज नगर पंचायत में कई कई परिवारों की है।

सारी स्थितियों से अवगत होकर एवं जरूरतमंद की मदद करके कामरेड सतीश कुमार एवं साथीगण वापस चले आए। वापस आने के करीब 1 घंटे के बाद शाजिया ने फोन करके बताया कि आप लोगों ने जो खाद्य सामग्री हमारे भाई के परिवार को मदद हेतु दिए थे जब उन्हें यह पता चला कि थोड़ी दूर पर पड़ोस  का एक खटीक परिवार भी इस परेशानी से जूझ रहा है तो उसी खाद्य सामग्री में से मेराज अहमद के परिवार ने उस खटीक परिवार की भी मदद की और मानवता की मिसाल पेश किया।

हम अपील करते हैं कि जहां भी इस तरह के लोग जिंदगी से जूझ रहे हों, उनकी मदद हेतु सूचना सामाजिक, राजनीतिक कार्यकर्ताओं को दी जानी चाहिए तथा सभी लोगों को मदद के लिए आगे आना चाहिए, जिससे इस कठिन परिस्थिति में मानवता की निःस्वार्थ सेवा की जा सके। क्योंकि कोरोना ने इस समय को बहुत ही कठिन बना दिया है।धन्यवाद !!