कोरोना समय की पिकनिक... : श्रीधर मिश्र
April 10, 2020 • गुरुकुल वाणी

DHFL के मालिक कपिल व वधावन 23 लोगों के साथ महाबिलपुरम में पिकनिक मनाने गए इस कोरोना समय मे, इन धनपशुओं के इस कृत्य पर लानत है, लेकिन इन्हें अनुमति या पास देने वाले अधिकारी, व्यवस्था पर भी लानत है, जबकि देश सोशल डिस्टेंसिंग के चलते लॉक डाउन झेल रहा, लोग घरों में कैद हैं, मृत्यु दरवाजे पर दस्तक दे रही इन अमीरों को पकिनिक मनाना है, शेर सपाटा करना है, विलासिता में डूबे ये इंग्लिश इंडियन कुछ भी कर सकते हैं ये संविधान, कानून सबसे ऊपर हैं, ये भारत के बोझ नही बल्कि इस देश की सड़ांध हैं, क्षमा करें, बहुत धैर्य रखा लेकिन आज इन धनपशुओं की इस करतूत ने घाव को खरोच दिया है तो यह कह डाल रहा हूँ कि कोरोना का वायरस चीन में पैदा हुआ, लेकिन हमारी आज की दुर्दशा का जिम्मेदार चीन नही बल्कि ऐसे ही धनपशु हैं, कोरोना हवाई जहाज से आया इस देश के बड़े शहरों में, कोरोना ढोढो कर लाया गया, इस देश के महानगरों में और बेदखल हुए महानगरों से मजदूर, गुनाह किसका और सजा किसको,
       यह लोकतंत्र, यह व्यवस्था देखने मे तो सर्वजन के हित की है लेकिन यह पूरा ढांचा इन्ही धनपशुओं की जी सारी जरूरतें, इनकी सनक, इनकी विलासिता , पूरी करने को अभिशप्त है,
     ये लोकतंत्र के अभिशाप हैं,ये मनुष्यता के शत्रु हैं, अरे ये  जाहिल तो कोरोना बम है, और खुद के भी दुश्मन हैं... लानत है इनपर..........