लालजी टंडन की मृत्यु राष्ट्रवादी विचारधारा की अपूरणीय क्षति : इन्द्रहास पाण्डेय*
July 22, 2020 • गुरुकुल वाणी

_सभासद से सांसद व राजभवन तक कि यात्रा_

सलेमपुर,देवरिया। भारतीय जनता पार्टी की रीढ़ की हड्डी लालजी टंडन की मौत से राष्ट्रवादी विचारधारा की जो अपूरणीय क्षति हुई है उसकी भरपाई नही की जा सकती।उक्त बातें आर एस एस के वरिष्ठ स्वयं सेवक इन्द्रहस पाण्डेय उर्फ पप्पू पाण्डेय ने कही।टंडन जी का राजनीतिक सफर सभासद से शुरू होकर राजभवन तक रही।इस बीच उन्होंने अनेक विभागों में रहते हुए मंत्री पद का दायित्व बखूबी ईमानदारी से संभाला।

पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न अटल बिहारी के निकट सहयोगी रहते हुए लखनऊ सहित देश प्रदेश के विकास में इनका योगदान कभी भुलाया नही जा सकता।प्रखर वक्ता व कुशल राजनीतिक के नाते देश प्रदेश की राजनीति में लंबे समय तक याद किया जाता रहेगा।पक्ष और विपक्ष के साथ समन्वय बनाकर राजनीति में प्रतिमान स्थापित किया।

लालजी टंडन के निधन पर शोक संवेदना इन्द्रहास पाण्डेय के आवास पर दो मिनट का मौन रखकर व्यक्त किया गया।इस मौके पर आचार्य उमाकांत मिश्रा ने कहा कि लालजी टंडन जीवन पर्यंत पार्टी की सेवा करते रहे।उनके निधन से पार्टीजनों में शोक की लहर दौड़ पड़ी है।

भाजपा नेता राजेश रावत ने कहा कि नगर विकास मंत्री रहते हुए बाल्मीकि समाज को सम्मानित करने का जो कार्य किया उसे बाल्मीकि समाज कभी भुला नही सकता।शोक व्यक्त करने वालो में स्कॉलर्स पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य सुनील पाण्डेय,ईश्वर दत्त पाण्डेय,विनय पाण्डेय,शशिकांत तिवारी,अनिल ठाकुर,विकास रौनियार,अवधेश मद्धेशिया आदि रहे।