लॉकडाउन : गुजरात में फंसने कारण नीतेश ने की आत्महत्या
April 19, 2020 • गुरुकुल वाणी

सलेमपुर, देवरिया। सलेमपुर कोतवाली क्षेत्र के रामपुर बुजुर्ग गांव का रहने वाला नीतेश (22) पुत्र राधेश्याम गौंड़ गुजरात प्रांत के दादोह जिला के लिमडी थाना क्षेत्र में एक टोल प्लाजा पर काम करता था। पिछले वर्ष इंटर की परीक्षा फेल होने के बाद उसने पढ़ाई छोड़ दी थी। घर की माली हालत ठीक नहीं होने के चलते जनवरी माह में वह कमाने चला गया था। कोरोना का प्रकोप बढ़ने के बाद 25 मार्च को टोल प्लाजा बंद कर दिया गया। लॉकडाउन के कारण नीतेश वहीं पर फंस गया। 16 अप्रैल को उसने अपने बड़े भाई मुकेश के वाट्सएप पर मैसेज किया कि मन नहीं लगने के कारण जा रहे हैं आत्महत्या करने। 

इसके बाद उसका मोबाइल स्विच ऑफ हो गया। मुकेश ने परिजनों को सूचना दी तो घर में कोहराम मच गया। इसके बाद मुकेश ने गुजरात में मौजूद नीतेश के साथ काम करने वाले गांव के जयगोविंद कुशवाहा से बात कर पूरी जानकारी दी। जयगोविंद ने उसे काफी ढूंढ़ा लेकिन कुछ पता नहीं चला। इस पर उसने लिमडी थाने में सूचना दी। 17 अप्रैल को पुलिस ने टोल प्लाजा पर पहुंच कर जांच पड़ताल की। शनिवार को नीतेश का शव टोल प्लाजा के पास बहने वाली मांचल नदी से गुजरात पुलिस ने बरामद किया।

संजय कुमार की रिपोर्ट