निरोग रोगियों में भी मधुमेह का कारण बन सकता हैं कोरोना-डाo पी के श्रीवास्तव
June 14, 2020 • गुरुकुल वाणी
 
कोविड-१९  वायरस स्वस्थ लोगों मे डायबेटीज का कारण भी बन सकता हैं। एक अध्ययन के  अनुसार-'डायबिटीज सबसे आम बीमारी है और हम अब दो महामारियों के बीच के ना टाले जाने वाले टकराव के नतीजे को महसूस कर रहे हैं। हम यह नहीं जानते हैं कि रोगियों में उभर रहे टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज हैं या संभवत: नए प्रकार के डायबिटीज हैं।' न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के मुताबिक, यह अध्ययन एक इंटरनेशनल रिसर्च प्रोजेक्ट के तहत किया जा रहा है।
 
इस अध्‍ययन में कोरोना पीडि़त उन रोगियों पर गौर किया जा रहा है, जिनमें डायबिटीज की समस्या उभरी पाई जा रही है। अब तक की निगरानी में कोविड-19 और डायबिटीज के बीच दो तरफा संबंध जाहिर हुआ है। एक तरफ डायबिटीज का संबंध कोरोना संक्रमण की गंभीरता और मौत के खतरे से पाया गया है तो दूसरी ओर वायरस के कारण इस बीमारी का खतरा देखने को मिला है।
 
अध्ययन के अनुसार, 'कोरोना के चलते जान गंवाने वाले 20 से 30 फीसद रोगी डायबिटीज से पीडि़त थे। यह साफ नहीं है कि कोरोना वायरस किस तरह इन मरीजों पर असर डालता है।' हाल के अध्ययनों से यह जाहिर हो चुका है कि इस खतरनाक वायरस के चलते हृदय रोग समेत तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम) संबंधी कई गंभीर समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। इस बीच वैज्ञानिकों ने अणुओं के उस समूह की पहचान की है जो सार्ससीओवी-2 में एक प्रमुख प्रोटीन की गतिविधि को अवरुद्ध (ब्लॉक) कर सकते हैं, जो कोरोना वायरस (कोविड-19) का कारण बनता है।