पत्रकारों का उत्पीड़न बर्दास्त नही-उदय प्रताप
August 28, 2020 • गुरुकुल वाणी


_रवीश पाण्डेय_

सलेमपुर, देवरिया। बलिया जिले के पत्रकार रतन सिंह की हत्या की घोर निन्दा करते हुए राष्ट्रीय पत्रकार एसोसिएसन के प्रदेश महामंत्री उदय प्रताप सिंह ने कहा कि प्रदेश में पत्रकारों का उत्पीड़न लगातार हो रहा है आये दिन पत्रकारों के साथ अभद्र व्यवहार की घटनाएं प्रकाश में आ रही है जो बर्दास्त नही किया जाएगा।देश व प्रदेश में पत्रकारों की हत्या के मामले आये दिन रोज प्रकाश में आ रहा है।अपराधी बेखौफ होकर घूम रहे हैं।19 जून को पत्रकार शुभम मणि त्रिपाठी की हत्या,20 जुलाई को विक्रम जोशी की हत्या,24 अगस्त को पत्रकार रतन सिंह की हत्या।

तीन महीने में तीन पत्रकारों की हत्या तथा 11 पत्रकारों पर खबर लिखने के चलते एफ आई आर के मामले प्रकाश में आये हैं।पत्रकारों को धमकी देने के मामले भी आये दिन देखने को मिल रहे हैं।लूट,हत्या,मारपीट आदि की घटना तो आम बात हो गयी है।कानून व्यवस्था लचर हो चुकी है।चारो तरफ अराजकता का माहौल बना हुआ है।ऐसे में समाज का एक भी व्यक्ति अपने को सुरक्षित महसूस नही कर रहा है।

हत्या,लूट,मारपीट आदि कि घटनाएं चरम पर पहुंच चुकी है।प्रदेश की वर्तमान सरकार इस पर नकेल कसने में अपने को लाचार व बेबश महसूस कर रही है।बलिया जिले के पत्रकार रतन सिंह की हत्या से पूरा पत्रकार समाज आहत हुआ है।

राष्ट्रीय पत्रकार एसोसिएसन के प्रदेश महामंत्री उदय प्रताप सिंह ने कहा कि हमारा संघटन पत्रकारों के हो रहे उत्पीड़न की किसी भी कीमत पर बर्दास्त नही करेगा।जरूरत पड़ी तो हम संघटन के लोग सड़क पर भी उतरने में देर नही करेंगे।उनके हितों के लिए हर सम्भव लड़ाई लड़ने को कमर कस चुके हैं।

यदि पत्रकारों व आम जनता का हो रहा उत्पीड़न पर प्रदेश सरकार नकेल नही कसती तो इसका खामियाजा उसे भुगतना पड़ेगा।संघटन के प्रदेश महामंत्री उदय प्रताप सिंह ने प्रदेश के योगी सरकार से मांग किया है कि मृतक पत्रकार के परिवार के आश्रितों को सरकारी नौकरी व पचास लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाय।