प्रधानमंत्री मोदी बाल्मीकि समाज के भगवान-राजेश रावत
May 28, 2020 • गुरुकुल वाणी


जम्मू-कश्मीर में बाल्मीकि समाज को मिली नागरिकता

श्यामा प्रसाद मुखर्जी एवं भीमराव अंबेडकर के सपनों को भाजपा कर रही सरकार

सलेमपुर,देवरिया। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी समाज के सबसे निचले तबके वाल्मीकि समाज के भगवान है।उक्त बातें सलेमपुर विधान सभा क्षेत्र के भाजपा नेता राजेश रावत ने कही। रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में जम्मू कश्मीर प्रशासनिक सेवा, विकेंद्रीकरण एवं नियोजन अधिनियम के संबंधों में जम्मू कश्मीर राज्य के कानूनों की स्वीकृति आदेश 2020 जारी हो जाने से 1956 में बाहर से लाए गए बाल्मीकि समाज के लाखों परिवारों को अब जम्मू कश्मीर की नागरिकता मिल गई है।अब इस समाज के लोग सरकारी नौकरी, राज्य में चुनाव तथा नौकरियों, ऐडमिशन व विधानसभा में आरक्षण प्राप्त कर सकेंगे।इसके लिए प्रधानमंत्री जी की जितनी प्रशंसा की जाए कम है।पिछले वर्ष इलाहाबाद के कुंभ मेले में बाल्मीकि समाज के लोगों का चरण धोकर प्रधानमंत्री ने जो सम्मान दिया वही सम्मान त्रेता युग में वनवास के समय भगवान श्रीराम ने आदिवासी भीलनी शबरी को दिया। शबरी के आश्रम में जाकर उसके प्रेम में वशीभूत होकर जूठे बेर खाकर आदर्श स्थापित किया था। उसी परंपरा का निर्वाह करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने इलाहाबाद के कुंभ मेले में सफाई कर्मियों को सम्मान देकर किया। इससे भारतीय संस्कृति एवं हिंदू समाज मजबूत हुआ है। और हमारे समाज में बराबरी का  मानदंड स्थापित हुआ है। केंद्र की मोदी सरकार एवं प्रदेश की योगी सरकार गरीबों पिछड़ों वंचितों जरूरतमंदों तथा बाल्मीकि समाज के लिए उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना ,शौचालय योजना, वृद्धा पेंशन योजना, विधवा पेंशन योजना ,गरीब विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति योजना, गरीब परिवार के इलाज के लिए आयुष्मान योजना देकर इनको समाज के मुख्य धारा से जोड़ने का काम किया है।साथ ही सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत गरीबों को राशन देने का काम भी कर रही है।

संकृत्यायन रवीश पाण्डेय