रेवली ग्रामवासियों ने कायम की मानवता की मिशाल
March 30, 2020 • गुरुकुल वाणी


करोना संकट से जूझ रही मानवता के दरम्यान रेवली ग्रामवासियों ने भारतीय आवाम मे निहित मानवतावाद और गंगा यमुनी तहजीब और संस्कार का अलख जगाया है ।जहाँ समाज हिन्दू मुस्लिम, जाति पाती मे विभाजित हो गया सा लगता था, वही रेवली के युवाओ ने जाति धर्म की सारी हदो को तोडते हुये मानवता की रक्षा एवं पोषण के लिये कमर कस कर सेवा मे उतर गये है । वे सरकारी मदद के इन्तजार की बजाय आपस मे चन्‍दा एकत्र कर गाँव और आसपास के गाँव के मजदूरी पर आश्रित लोगों के घर गेहूँ, चावल,दाल, मसाला, तेल, नमक इत्यादि पहुँचा रहे है, और यह विस्‍वास दिला रहे है कि विपदा की इस घडी मे पूरा गाँव एक साथ खडा है और हर बिपदा मे सब साथ मिलकर ही मुकाबला करेगे ।  इन युवको का आर्थिक सहयोग मात्र गाँव मे रह रहे लोग ही नहीं बल्कि बिभिन्‍न शहरो मे बस चुके रेवली के ग्रामवासी भी कर रहे हैं । लाक डाउन की वजह से अचानक बन्द हुयी मजदूरी की वजह और घर मे राशन और पैसे की कमी से मुरझाये चेहरो पर मुस्कान लानेवाले युवको की पहल की पूरे क्षेत्र मे प्रशंसा हो रही है। महत्वपूर्ण बात यह देखने को मिल रही है कि नेताओं द्वारा जाति धर्म की खाई को इस गाँव के युवको ने नेस्‍तानाबूद कर मानवतावाद का झण्‍डा बुलन्द कर दिया है और धार्मिक उन्‍माद से सहमे अल्पसंख्यक समाज के लोगों के चेहरों पर चमक और दिल मे हमदर्दी का चिराग रौशन कर दिया है।इस गाँव के युवाओ के पहल से प्रेरणा लेकर आसपास के अन्य गाँवो के युवक भी इस कार्य मे जुट गये है। हमारे संवाददाता कि रिपोर्ट के अनुसार रंगौली और धन्‍धवार मे भी इसकी पहल शुरु हो चुकी है। इस पुनीत कार्य मे सहयोग करनेवाले लोगों की सूची निम्‍नवत है।

Abhi Tak kul prapt sahyog Rashi

श्री प्रहलाद मिश्र जी                   -1500
श्री उमेश मिश्र जी मंटू।               -2100
श्री मनोज मिश्र जी मास्टर साहब-  2000
श्री गब्बर बाबा जी                    - 2100
श्री राम केशव मिश्र जी           -  15000
 श्री रोहित पांडेय जी भेवली।      - 1000
श्री आदित्य कुमार मिश्र।             -1000
श्री सुमेश्वर मिश्र जी                   - 2000
श्री रितेश ग्रीस मिश्र जी              - 1500
श्री रविभूषण मिश्र।                   - 1500
श्री धीरज मिश्र डिक्की।               - 500
श्री कमल मिश्र कैलाश जी          - 2000
श्रीअनिल सोनकर जी ऑडिटर    - 1100
श्री राम विलास मिश्र जी             -1100
श्री मनीष मिश्र जी बंटू चाचा         - 500
श्री नसीरुद्दीन अंसारी जी            -1000
श्री भोला कुशवाहा जी                 -600
श्री नरेन्द्र मिश्र जी।                     - 151
श्री धनंजय दुबे जी ऑडिटर         -2100
श्री रवीन्द्र मिश्र जी                    -1000
श्री रवि दुबे badhanpura        -1100
श्री संतोष त्रिपाठी मास्टर साहब  - 1100
श्री अक्षयवर मिश्र जी               - 5100
लिटिल एन्‍जिल्‍स स्‍कूल भिटहाँ - रु 501

इस पुनीत कार्य मे गोरखपुर देवरिया और लखनऊ मे रियल स्‍टेट का काम करनेवाली कम्पनी रेमनी ग्रुप का कम्पनी का भी बिशेष सहयोग रहा है, जिसमे इस गाँव के कुछ सदस्य है। इसके अतिरिक्त अभिषेक मिश्र वत्स पीसी एस, मुकेश मिश्र, गब्बर मिश्र, आदित्य मिश्र, अमरनाथ मिश्र, एवं गाँव के ही जिला पंचायत सदस्य का ऐसी मानवतावादी पहल मे बिशेष योगदान रहा है । जिन लोगों के घरो को राशन घर घर जाकर बाँटा गया है उनकी सूची निम्‍नवत है। बिशेष बात यह है कि इन युवाओ द्वारा ब्‍यक्‍ति की गरिमा का बिशेष ख्याल रखा गया है ,और कैसी भी ग्रामवासी को याचक नहीं बनने दिया गया है, जो एक नयी मिशाल है। सामान सभी चिन्हित ब्‍यक्‍तियो के घर स्‍वतः ही पहुँचाया गया है।

1- श्री राम आश्रय भगत
2- श्री मती मैना यादव
3- "  मु इस्लाम
4-  " लालजी कोहार
5- " मु अलीशेर
6- श्री मती मालती
7- " साधू सोनार
8- " मु सलीम
9- " ज्योतिष मिश्र
10- " मुन्‍ना मिश्र
11- " मु नसीरूद्‍दीन 
12-- " घूरा हरिजन
13-" प्रभु लोहार
14-" गामा थोबी
15-" मु करमुल्‍लाह
16-" चन्‍द्‍रमा यादव
17-" वाल गोबिंद
18-" कमलेश हजाम
19-श्रीमती सकीला
20-" राम भवन
21-" कमलदेव
22-" गामा प्रसाद
23-" रामकिशुन
24- " सुरजन प्रसाद
25-" बजरंगी
26- " कमेक्षा
27- गुड्‍डू
28- श्री मती पुष्‍पा देवी
29-" अवध किशोर

अभी भी चिन्हित करने और बितरित करने का कार्य जारी है। वास्तविक पात्र लोगों को ही राशन उपलब्ध कराया जा रहा है वो भी जाति धर्म की भावना से उपर उठकर। जिन लोगो के पास खेती है उन्हे मात्र मसाला, चीनी, चाय , नमक ही उपलब्ध कराया जा रहा है । इस पुनीत कार्य और युवाओ के इस मानवतावादी प्रयास की पूरे क्षेत्र मे प्रशंसा हो रही है । गाँव वासियों ने किसी भी लाभार्थी की फोटो डालने को मना कर ब्‍यक्‍ति की गरिमा बहाल रखने के अन्य अध्याय की शुरूआत कर तथाकथित समाजसेवियो के मुँह पर जोरदार तमाचा मारा है। समिती के सदस्यों ने किसी भी दानी के फोटो न डालने को भी मना किया है और आज के जातिवादी, धर्मवादी समाजसेवको को समाजसेवा का आइना दिखाया है ।