सलेमपुर बिधानसभा ने कभी मंत्री का दायित्व नही सम्भाला
August 7, 2020 • गुरुकुल वाणी

सलेमपुर प्रदेश की बड़ी तहसील रही है  इससे कटकर भाटपार रानी व बरहज तहसील बना जिससे इस सलेमपुर  बिधानसभा क्षेत्र  का बिकास  नही  हो  सका  इस  बिधानसभा  को  सभी  दलो  ने  मंत्री  पद  से  अछूता  रखा  सबसे  बड़ी बात  यह  है कि जब भाजपा पार्टी बनी  थी उस वक्त सलेमपुर  बिधानसभा  मे  भाजपा के बड़े  नेता  पंडित  दूर्गा  प्रसाद  मिश्र   बिधायक  बने  थे  उसके  बाद  यहा  जनता  दल ,सपा, बसपा ,के  बिधायक  बनते  रहे  यहाँ  राम  लहर  मे  भी  भाजपा  बिधानसभा  चुनाव  नही  जीत  सकी  उसके  बाद  1980 के  बाद  भाजपा  2017 मे  गांव  की  राजनिती  से  प्रधान , जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र  पंचायत सदस्य ब्लाक  प्रमुख, रहे  काली  प्रसाद  जी  ने  सभी  दलो  का  रिकार्ड  तोड़कर  सर्वाधिक  मतो  से  जीतकर  बिधायक  बने  जो  भाजपा  कार्यकर्ताओ  के  मनोबल को  ऊँचा  कर दिया है  आज  जब  सलेमपुर  मे  मंत्री  पद  की  चर्चा  होती है  तब  क्षेत्र  के  लोग  कहते  कि  सलेमपुर  ने  भाजपा  बिधायक  चुना  है  उम्मीद  थी  की  सलेमपुर  को  मंत्री  पद  से  अवश्य  सुशोभीत  होगा  लेकिन  जनता  को  निराश होना  पड़ा  इस  बिषय  पर  जब  क्षेत्र  के  बिधायक  से  बात  हुई  तो  उन्होने  ने  कहा कि  पार्टी  ने  मूझे  टिकट  दिया  और  जनता  ने  आशिर्वाद दिया  है। भाजपा  मे  कब  किसी  को  मंत्री  बना  दिया  जायेगा  यह  कोई  नहीं  जानता  यह  संगठन  तय  करता है पार्टी  यदि  कभी  अवसर  देगी  तो  कार्यकर्ताओ  के  सम्मान  की  रक्षा  करूँगा  और  जनता  का  विश्वास  और  बिकास  के  लिये  अपना  पुरा  सहयोग  करूँगा।  भाजपा  कार्यकर्ताओ  ने  संगठन  से  मांग  की  है  सलेमपुर  को  मंत्री  पद  का सम्मान  देकर  क्षेत्र  का  विकास  मे  सहयोग  करे।